Sunday, August 15, 2010

माँ को मेरा नमन है !




         स्वतंत्रता-दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ



कौम के खादिम की है,

जागीर वन्दे मातरम्,

मुल्क के है वास्ते

अकसीर वन्दे मातरम्.



जालिमों को है उधर,

बन्दूक अपनी पे गुरूर,

है इधर हम बेकसों का,

तीर वन्दे मातरम्.



कत्ल कर हमको न

कातिल, तू हमारे खून से,

तेग पर हो जायेगा,

तहरीर वन्दे मातरम्.




फ़िक्र क्या जल्लाद ने गर,

कत्ल कर बांधी कमर,

रोक देगा जोर से,

शमशीर वन्दे मातरम्





जुल्म से गर कर दिया,

खामोश मुझको देखना,

बोल उठ्ठेगी मेरी

तस्वीर, वन्दे मातरम्.





सरजमीं इंग्लैंड की, हिल

जायेगी दो रोज में,

गर दिखाएगी कभी,

तासीर वन्दे मातरम्.





संतरी भी मुज्तरिब है,

जब कि हर झंकार में,

बोलती है जेल में,

जंजीर वन्दे मातरम्.



             (२)


 
सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,


देखना है जोर कितना बाजुए कातिल में है ।



करता नहीं क्यों दुसरा कुछ बातचीत,

देखता हूँ मैं जिसे वो चुप तेरी महफिल मैं है ।



रहबर राहे मौहब्बत रह न जाना राह में

लज्जत-ऐ-सेहरा नवर्दी दूरिये-मंजिल में है ।



यों खड़ा मौकतल में कातिल कह रहा है बार-बार

क्या तमन्ना-ए-शहादत भी किसी के दिल में है ।



ऐ शहीदे-मुल्को-मिल्लत मैं तेरे ऊपर निसार

अब तेरी हिम्मत का चर्चा ग़ैर की महफिल में है ।



वक्त आने दे बता देंगे तुझे ऐ आसमां,

हम अभी से क्या बतायें क्या हमारे दिल में है ।



खींच कर लाई है सब को कत्ल होने की उम्मींद,

आशिकों का जमघट आज कूंचे-ऐ-कातिल में है ।



सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,

देखना है जोर कितना बाजुए कातिल में है ।


                  (३)

सिंहासन हिल उठे राजवंशों ने भृकुटी तानी थी


बूढ़े भारत में आई फिर से नयी जवानी थी

गुमी हुई आज़ादी की कीमत सबने पहचानी थी

दूर फिरंगी को करने की सबने मन में ठानी थी



चमक उठी सन सत्तावन में, वह तलवार पुरानी थी

बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी



इस स्वतंत्रता महायज्ञ में कई वीरवर आए काम

नाना धुंधूपंत, ताँतिया, चतुर अज़ीमुल्ला सरनाम

अहमदशाह मौलवी, ठाकुर कुँवरसिंह सैनिक अभिराम

भारत के इतिहास गगन में अमर रहेंगे जिनके नाम



कानपूर के नाना की, मुँहबोली बहन छबीली थी

लक्ष्मीबाई नाम, पिता की वह संतान अकेली थी

नाना के सँग पढ़ती थी वह, नाना के सँग खेली थी

बरछी ढाल, कृपाण, कटारी उसकी यही सहेली थी



वीर शिवाजी की गाथायें उसकी याद ज़बानी थी

बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी



लक्ष्मी थी या दुर्गा थी, वह स्वयं वीरता की अवतार

देख मराठे पुलकित होते उसकी तलवारों के वार

नकली युद्ध व्यूह की रचना और खेलना खूब शिकार

सैन्य घेरना, दुर्ग तोड़ना ये थे उसके प्रिय खिलवाड़



महाराष्टर कुल देवी उसकी भी आराध्य भवानी थी

बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी



हुई वीरता की वैभव के साथ सगाई झांसी में

ब्याह हुआ रानी बन आयी लक्ष्मीबाई झांसी में

राजमहल में बजी बधाई खुशियाँ छायी झांसी में

सुघट बुंदेलों की विरुदावलि सी वह आयी झांसी में



चित्रा ने अर्जुन को पाया, शिव से मिली भवानी थी

बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी



उदित हुआ सौभाग्य, मुदित महलों में उजयाली छायी

किंतु कालगति चुपके चुपके काली घटा घेर लायी

तीर चलाने वाले कर में उसे चूड़ियाँ कब भायी

रानी विधवा हुई, हाय विधि को भी नहीं दया आयी



निसंतान मरे राजाजी रानी शोक समानी थी

बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी



बुझा दीप झाँसी का तब डलहौज़ी मन में हर्षाया

राज्य हड़प करने का उसने यह अच्छा अवसर पाया

फ़ौरन फौजें भेज दुर्ग पर अपना झंडा फहराया

लावारिस का वारिस बनकर ब्रिटिश राज्य झांसी आया



अश्रुपूर्ण रानी ने देखा झांसी हुई बिरानी थी

बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी



अनुनय विनय नहीं सुनती है, विकट फिरंगी की माया

व्यापारी बन दया चाहता था जब यह भारत आया

डलहौज़ी ने पैर पसारे, अब तो पलट गई काया

राजाओं नव्वाबों को भी उसने पैरों ठुकराया



रानी दासी बनी, बनी यह दासी अब महरानी थी

बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी



छिनी राजधानी दिल्ली की, लखनऊ छीना बातों बात

कैद पेशवा था बिठुर में, हुआ नागपुर का भी घात

उदैपुर, तंजौर, सतारा, कर्नाटक की कौन बिसात?

जबकि सिंध, पंजाब ब्रह्म पर अभी हुआ था वज्र-निपात



बंगाले, मद्रास आदि की भी तो वही कहानी थी

बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी



रानी रोयीं रनवासों में, बेगम ग़म से थीं बेज़ार

उनके गहने कपड़े बिकते थे कलकत्ते के बाज़ार

सरे आम नीलाम छापते थे अंग्रेज़ों के अखबार

नागपूर के ज़ेवर ले लो लखनऊ के लो नौलख हार



यों परदे की इज़्ज़त परदेशी के हाथ बिकानी थी

बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी



कुटियों में भी विषम वेदना, महलों में आहत अपमान

वीर सैनिकों के मन में था अपने पुरखों का अभिमान

नाना धुंधूपंत पेशवा जुटा रहा था सब सामान

बहिन छबीली ने रण चण्डी का कर दिया प्रकट आहवान



हुआ यज्ञ प्रारम्भ उन्हें तो सोई ज्योति जगानी थी

बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी



महलों ने दी आग, झोंपड़ी ने ज्वाला सुलगाई थी

यह स्वतंत्रता की चिन्गारी अंतरतम से आई थी

झांसी चेती, दिल्ली चेती, लखनऊ लपटें छाई थी

मेरठ, कानपूर, पटना ने भारी धूम मचाई थी



जबलपूर, कोल्हापूर में भी कुछ हलचल उकसानी थी

बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी



इस स्वतंत्रता महायज्ञ में कई वीरवर आए काम

नाना धुंधूपंत, ताँतिया, चतुर अज़ीमुल्ला सरनाम

अहमदशाह मौलवी, ठाकुर कुँवरसिंह सैनिक अभिराम

भारत के इतिहास गगन में अमर रहेंगे जिनके नाम



लेकिन आज जुर्म कहलाती उनकी जो कुरबानी थी

बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी



इनकी गाथा छोड़, चले हम झाँसी के मैदानों में

जहाँ खड़ी है लक्ष्मीबाई मर्द बनी मर्दानों में

लेफ्टिनेंट वाकर आ पहुँचा, आगे बड़ा जवानों में

रानी ने तलवार खींच ली, हुया द्वन्द्ध असमानों में



ज़ख्मी होकर वाकर भागा, उसे अजब हैरानी थी

बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी



रानी बढ़ी कालपी आयी, कर सौ मील निरंतर पार

घोड़ा थक कर गिरा भूमि पर गया स्वर्ग तत्काल सिधार

यमुना तट पर अंग्रेज़ों ने फिर खायी रानी से हार

विजयी रानी आगे चल दी, किया ग्वालियर पर अधिकार



अंग्रेज़ों के मित्र सिंधिया ने छोड़ी राजधानी थी

बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी



विजय मिली पर अंग्रेज़ों की, फिर सेना घिर आई थी

अबके जनरल स्मिथ सम्मुख था, उसने मुहँ की खाई थी

काना और मंदरा सखियाँ रानी के संग आई थी

युद्ध श्रेत्र में उन दोनों ने भारी मार मचाई थी



पर पीछे ह्यूरोज़ आ गया, हाय घिरी अब रानी थी

बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी



तो भी रानी मार काट कर चलती बनी सैन्य के पार

किन्तु सामने नाला आया, था वह संकट विषम अपार

घोड़ा अड़ा नया घोड़ा था, इतने में आ गये सवार

रानी एक शत्रु बहुतेरे, होने लगे वार पर वार



घायल होकर गिरी सिंहनी उसे वीरगति पानी थी

बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी



रानी गयी सिधार चिता अब उसकी दिव्य सवारी थी

मिला तेज से तेज, तेज की वह सच्ची अधिकारी थी

अभी उम्र कुल तेइस की थी, मनुष नहीं अवतारी थी

हमको जीवित करने आयी, बन स्वतंत्रता नारी थी



दिखा गई पथ, सिखा गई हमको जो सीख सिखानी थी

बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी



जाओ रानी याद रखेंगे हम कृतज्ञ भारतवासी

यह तेरा बलिदान जगायेगा स्वतंत्रता अविनाशी

होये चुप इतिहास, लगे सच्चाई को चाहे फाँसी

हो मदमाती विजय, मिटा दे गोलों से चाहे झांसी



तेरा स्मारक तू ही होगी, तू खुद अमिट निशानी थी

बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी

                                                 --सुभद्राकुमारी चौहान

     

10 comments:

शिवम् मिश्रा said...

क्या बात है मीनू दीदी ...........दिल खुश कर दिया आपने .......बेहद उम्दा पोस्ट !!


आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं ! जय हिंद !!

Udan Tashtari said...

बहुत बढ़िया.


स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आप एवं आपके परिवार का हार्दिक अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ.

सादर

समीर लाल

M VERMA said...

जुल्म से गर कर दिया,

खामोश मुझको देखना,

बोल उठ्ठेगी मेरी

तस्वीर, वन्दे मातरम्.

क्या जज्बा है !!
सुभद्रा कुमारी चौहान की रचना पढवाने का आभार

गिरिजेश राव said...

वन्दे मातरम् ।
आज के दिन कविताओं का यह संकलन बहुत जमा। Old is gold.

डॉ महेश सिन्हा said...

स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ

रचना दीक्षित said...

बचपन की यादें सचमुच कहीं और ही ले जाती हैं
आपको स्वतंत्रता दिवस पर ढेरों शुभकामनाएं.

ताऊ रामपुरिया said...

स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ.

रामराम.

शिवम् मिश्रा said...

एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए आपको बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !
आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं !
स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!

दिगम्बर नासवा said...

आज़ादी का जश्न मुबारक .... वन्दे मातरम् ...

Anonymous said...

Genial dispatch and this fill someone in on helped me alot in my college assignement. Say thank you you on your information.

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails