Monday, May 16, 2011

शिवानी का विशेष दिन









शिवानी मेरी भांजी का नाम है.वो आठवीं कक्षा में पढ़ती है.मै उसकी मौसी हूँ.मौसी यानी “माँ सी” और इस नाते शिवानी में मुझे भांजी के साथ बेटी की छवि भी हमेशा दिखाई देती है.आज का दिन विशेष है न केवल शिवानी के लिए बल्कि मेरे पूरे परिवार के लिए.आज हमारी बेटी ने पहली बार रेडियो पर एक कार्यक्रम का संचालन किया.उसकी आवाज़ आज पहली बार आधिकारिक रूप से आकाशवाणी के उसी ट्रांसमीटर से प्रसारित हुई जिस पर कभी मेरी माँ, कभी मेरी स्वयं की और कभी मेरी बहन की आवाज़ सुनाई देती रही है. इस हिसाब से आज मेरे परिवार की तीसरी पीढ़ी रेडियो प्रसारण से जुड़ी.कुछ वैसा ही लग रहा है जैसे बड़े बड़े कलाकार कहते है कि पिछली इतनी पीढ़ियों से हम यह साज़ बजा रहे हैं या हम संगीत के खानदानी लोग हैं.आज कहीं यह अहसास हो रहा है कि हम ब्राडकास्टिंग के खानदानी लोग हैं.


खानदानी ब्राडकास्टिंग की बात सुन कर मेरी सहेली को हंसी आ रही है.उसे लगता है कि क्या रेडियो प्रसारण भी कोई इतनी सीरिअस आर्ट है जिसमे खानदानी होने का तमगा दिया जा सके! शायद सच ही कह रही है वो.आजके चकाचौंध भरे ग्लेमरस मीडिया जगत में परंपरागत रेडियो प्रसारण को कौन सीरियसली लेता है ? पर पूरे होशोहवास में मेरा मानना है कि ग्लेमरस और कामर्शिअल ब्राडकास्टिंग के मुकाबले परम्परागत पब्लिक सर्विस ब्राडकास्टिंग कहीं ज्यादा मुश्किल है. यह कुछ वैसी ही है जैसे स्टेज पर किसी मॉडल के सामने अपने घर की किसी भाभी, ताई,दीदी को खड़ा कर दिया जाय. निश्चित रूप से वोट मॉडल को ही ज़्यादा मिलेंगे पर क्या यह मॉडल हमारी भाभी,दीदी आदि की जगह ले सकेगी? नही ना ? पब्लिक सर्विस ब्राडकास्टर की भूमिका भी इन्ही घरेलू सदस्यों की तरह ही है यानी लोगों तक सही सूचना पहुंचाना और उनका सही मार्गदर्शन करना.पिछले बीस सालों के करिअर में बस यही करने की कोशिश करती रही हूँ और अपने श्रोताओं का भरपूर प्यार मिला है.मेरे प्रोफेशनल करियर में पब्लिक सर्विस ब्राडकास्टिंग की अनूठी सफलता की कहानियों की चर्चा फिर कभी. आज केवल सेलिब्रेशन का दिन है.मेरी बेटी ने इस क्षेत्र में अपने नन्हे कदम रखे हैं. यह भी एक अजब संयोग है कि शिवानी के पापा भी रेडियो ब्राडकास्टिंग से जुड़े रह चुके हैं.आशा करती हूँ कि वो हमारे इस खानदानी पेशे को नई ऊंचाइयों तक पहुचाएगी.शिवानी को अशेष स्नेह और शुभाशीष.

7 comments:

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

बहुत बहुत बधाई शिवानी को!

सादर

प्रवीण पाण्डेय said...

बधाई और शुभकामनायें।

BrijmohanShrivastava said...

बिटिया को बहुत बहुत बधाई और शुभ कामनायें । मौसी का शब्द विच्छेद बहुत अच्छा लगा मां सी । बिल्कुल उंचाई तक पहुचायेगी हन्डृेड वन परसेन्ट।

चैतन्य शर्मा said...

यह तो अच्छी खबर है .... शिवानी दी को बधाई

Patali-The-Village said...

शिवानी को बहुत बहुत बधाई|

घनश्याम मौर्य said...

अच्‍छी पोस्‍ट। ब्राडकास्टिंग में खानदानी अनुभव होने के बारे में अच्‍छी जानकारी दी आपने। शिवानी को मेरी ओर से बधाइयां।

Neelima sharma said...

shubhaashish

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails